राजस्थान भर में शिक्षकों की बड़ी भर्ती रीट की परीक्षा शांतिपूर्ण सम्पन्न, शिक्षा बोर्ड की सचिव मेघना चौधरी भी ऐसे हुई पास

जयपुर/जोधपुर: सोमवार को राजस्थान भर में अध्यापक पात्रका परीक्षा (रीट) शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न हो गई। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की सचिव और परीक्षा की समन्वयक मेघना च ौधरी ने एक बार फिर साबित किया है कि महिलाओं को अवसर मिले तो वे पुरुषों से बेहतर काम कर सकती हैं।

राज्य सरकार की प्रतिष्ठा से जुड़ी रीट परीक्षा को शांतिपूर्ण तरीके से करवाने में मेघना चौधरी ने रात-दिन एक कर दिया। मेघना ने राज्य की सबसे बड़ी प्रतियोगी परीक्षा तब करवाई है जब अगले मार्च माह में ही बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षा होनी है। रीट परीक्षा में भी करीब 10 लाख अभ्यर्थियों ने भाग लिया है। इस परीक्षा का अंदाजा इसलिए लगाया जा सकता है कि प्रदेश भर के 52 हजार 253 परीक्षा केन्द्रों पर कोई 50 हजार कर्मचारी तैनात रहे। एक दिन पहले ही राज्य के प्रमुख सचिव एनसी गोयल ने वीडियो काॅन्फ्रेसिंग के जरिए सभी जिला कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिए।

बोर्ड के अधिकारियों के अनुसार मेघना चौधरी पिछले एक पखवाड़े से रात 10 बजे तक बोर्ड दफ्तर में ही रही, ताकि रीट परीक्षा के माकूल इंतजाम किए जा सके। परीक्षा केन्द्रों पर जैमर से लेकर सीसीटीवी कैमरे, वीडियोग्राफी तक करवाई गई ताकि किसी भी तरह से नकल की प्रवृत्ति को रोका जा सके। इसके साथ ही परीक्षार्थियों का परीक्षा केन्द्र निकटवर्ती जिले में बनाया, वहीं यातायात के लिए रोडवेज की अतिरिक्त बसों तथा रेलवे से अतिरिक्त ट्रेने तक चलवाई गई।

परीक्षाओं की तरह पुलिस कर्मियों को भी मानदेय दिलवाया गया। मेघना ने शांतिपूर्ण परीक्षा के लिए जो मेहनत की उसकी अब सर्वत्र प्रशंसा हो रही है। इसे मेघना पर ईश्वर की कृपा ही कहा जाएगा कि बिना किसी बाधा के इतनी बड़ी परीक्षा हो गई। अब श्रेय तो अनेेक लोग लेंगे, लेकिन यदि कोई गड़बड़ी होती तो सबसे पहले गाज मेघना पर ही गिरती। शांतिपूर्ण परीक्षा सम्पन्न करवाने के लिए मोबाइल नम्बर 9829043222 पर मेघना को बधाई दी जा सकती है।

भर्ती के लिए महत्वपूर्ण है परीक्षाः
शिक्षा बोर्ड के उपनिदेशक राजेन्द्र गुप्ता ने बताया कि शिक्षक बनने के लिए रीट की परीक्षा महत्वपूर्ण है। 60 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाले अभ्यर्थी को ही परीक्षा में उत्तीर्ण किया जाएगा। रीट परीक्षा के बाद अभ्यर्थी को शिक्षक भर्ती के लिए अलग से कोई परीक्षा नहीं देनी होगी। रीट परीक्षा में प्राप्त अंक, बीएड के अंक तथा ग्रेजुएशन के अंक मिला कर मेरिट बनाई जाएगी और इस मेरिट के आधार पर शिक्षकों की भर्ती होगी। गुप्ता ने बताया कि किसी परीक्षा केन्द्र से गड़बड़ी की कोई शिकायत प्राप्त नहीं हुई है।

35 हजार शिक्षकों की भर्ती होनी हैः-
राज्य सरकार ने प्रदेश में 35 हजार शिक्षकों की भर्ती करने की घोषणा कर रखी है। माना जा रहा है कि रीट परीक्षा का परिणाम आते ही मेरिट बनाने का कार्य शुरू कर दिया जाएगा। संभवतः आगामी जुलाई तक भार्तियां भी हो जाएगी।

11 फरवरी को रीट परीक्षा से पूर्व दो पारियों में डिजीटल इंडिया का असर भी देखने को मिला। चूंकि परीक्षार्थियों के केन्द्र दूसरे जिले में बनाए गए थे, इसलिए परीक्षा केन्द्र की लोकेशन अधिकांश परीक्षार्थियों ने अपने मोबाइल फोन पर गूगलएप के जरिए ही देखी।

आज परीक्षार्थियों को परीक्षा केन्द्र वाले स्कूल का पता राहगीरों से पूछते नहीं देखा गया। परीक्षार्थी अपने मोबाइल के माध्यम से स्वयं ही परीक्षा केन्द्रों पर पहुंच रहे थे। संभवतः पूरे देश में 11 फरवरी को सबसे ज्यादा गूगल एप का उपायोग राजस्थान में हुआ। ग्रामीण क्षेत्रों के परीक्षर्थी खासकर महिला परीक्षार्थी भी गूगल एप के जरिए पहुंच रही थीं।

Web Title : Teacher recruitment exam for peaceful teachers across Rajasthan