विराट बिना ‘जीत’ कहां रे…धोनी बिना ‘चैन’ कहां रे… टीम इंडिया की सनसनीखेज हार, बना डाले ये दो शर्मनाक रिकॉर्ड

भारतीय क्रिकेट टीम को गुरुवार को न्यूजीलैंड के खिलाफ पांच मैंचों की सीरीज के चौथे वनडे में 8 विकेट के अंतर से करारी हार का सामना करना पड़ा। इस जीत के साथ कीवी टीम सीरीज में अपना खाता खोलने में कामयाब रही। सीरीज के शुरुआती तीन मैचों में जीत हासिल कर भारतीय टीम सीरीज अपने नाम कर चुकी है। ऐसे में इस मैच के नतीजे का सीरीज के परिणाम पर कोई बड़ा अंतर नहीं पड़ने वाला था लेकिन विराट कोहली के बगैर दो बदलावों के साथ मैच में उतरी भारतीय टीम को मात मिली। 

नई दिल्ली. न्यूजीलैंड के खिलाफ हैमिल्टन वनडे में टीम इंडिया का प्रदर्शन चौकाने वाला रहा. भारत को सनसनीखेज हार से दो चार होना पड़ा. मौजूदा वनडे सीरीज में पहली बार टीम इंडिया एक ऐसा मुकाबला खेलने उतरी थी, जिसमें न तो विराट उसके साथ थे और न ही धोनी नाम का भरोसा पास था. अब जब इन दोनों के बगैर टीम इंडिया का टेस्ट हुआ तो वो बुरी तरीके से फेल हो गए. हैमिल्टन में खेले चौथे वनडे में टीम इंडिया चारो खाने चित्त हो गई. भारतीय टीम 100 रन का आंकड़ा भी नहीं पार कर सकी और सिर्फ 92 रन पर ऑलआउट हो गई. भारतीय टीम को हैमिल्‍टन वनडे में 212 गेंदें बाकी रहते हुए हार मिली है, जो कि गेंदों के हिसाब से उसकी सबसे बड़ी हार है. इससे पहले 22 अगस्‍त 2010 को श्रीलंका ने उसे 209 गेंद बाकी रहते हुए 8 विकेट से रौंदा था. जबकि गेंद शेष रहने के लिहाज से न्यूजीलैंड ने अपनी पांचवीं सबसे बड़ी जीत की बराबरी की है.

212 गेंदे शेष रहते जीता न्यूजीलैंड

हैमिल्टन वनडे में भारत को हराने के लिए न्यूजीलैंड ने सिर्फ 88 गेंदे खेली. यानी, 212 गेंदे शेष रहते ही उसने टीम इंडिया का किला फतह कर लिया. सबसे ज्यादा बॉल बाकी रहते ये किसी भी टीम की भारत के खिलाफ सबसे बड़ी जीत है. भारतीय टीम हैमिल्‍टन में 92 रन पर आउट हुई है, जो कि उसका वनडे क्रिकेट में उसका 7वां सबसे कम स्‍कोर है. भारतीय टीम श्रीलंका के खिलाफ 54 रन पर आउट हुई थी जो कि रिकॉर्ड है. इसके अलावा वह ऑस्‍ट्रेलिया, श्रीलंका, पाकिस्‍तान, न्‍यूजीलैंड और साउथ अफ्रीका के खिलाफ क्रम: 63, 78, 79, 88 और 91 के स्‍कोर आउट हुई है.

विराट-धोनी के बगैर फेल

टीम इंडिया के पास ओपनिंग में रोहित, धवन का अनुभव तो था लेकिन विराट और धोनी के बगैर मिडिल ऑर्डर अनुभवहीन था. न्यूजीलैंड ने हैमिल्टन में भारतीय टीम की इसी कमजोर नब्ज पर अटैक किया और उसे ढेर भी किया. कीवी गेंदबाजों ने रोहित और धवन को जल्दी समेटने के बाद अनुभवहीन भारतीय मिडिल ऑर्डर कोभी देखते ही देखते ध्वस्त कर दिया. रोहित शर्मा ने आज अपना 200वां वनडे खेला. उन्‍होंने राहुल द्रविड़ की कप्‍तानी में डेब्‍यू किया था. जबकि 100वां वनडे कोहली तो 150वां वनडे धोनी की कप्‍तानी में खेला. रोहित ने अपने 200वें वनडे में खुद कप्‍तानी की. रोहित के 150वें और 200वें वनडे में भारत को हार मिली है. जबकि उन्‍हें दोनों बार ट्रेंट बोल्‍ट आउट किया है.

एक रिकॉर्ड ऐसा भी..

न्यूजीलैंड ने 33 रन पर टीम इंडिया के पहले 5 विकेट गिरा दिए. ऐसा पहली बार हुआ कि इतने कम स्कोर पर वनडे में भारत के टॉप 5 ने घूटने टेक दिए. इसके बाद खतरा टीम इंडिया के सबसे लोएस्ट स्कोर के टूटने पर भी मंडराने लगा. उस शर्मनाक रिकॉर्ड का भागीदार बनने से तो टीम इंडिया ने खुद को बचा लिया पर शर्मनाक हार को नहीं टाल सके.Rohit Sharma- India TVमाना कि क्रिकेट अनिश्चिताओं का खेल हैं. किसी भी दिन कुछ भी हो सकता है लेकिन जिस अंदाज में टीम इंडिया के बल्लेबाजों ने अपने विकेट खोए हैं उसे देखकर तो अभी से वर्ल्ड कप के सपने सजोना जल्दबाजी है. हां टीम के कोच मीडिया और देश के क्रिकेट प्रेमियों को ये कहकर शांत कर सकते हैं कि हम सीरीज जीत चुके हैं लेकिन इसका मतलब ये कतई नहीं है कि इस तरह के प्रदर्शन के बाद टीम मैनेजमेंट से सवाल न पूछे जांए, ऐसी स्थिति तो क्रिकेट में कभी भी आ सकती है लेकिन एक प्लान के फेल हो जाने के बाद टीम के पास प्लान B भी होता है लेकिन जिस तरह से टीम ताश के पत्तों की तरह बिखर गई उससे तो ऐसा लग रहा था कि टीम को कोई प्लान ही नहीं था. आप होंगे दुनिया के सबसे बेहतरीन खिलाड़ी लेकिन इस मैच को देखने के बाद आपने हर भारतीय क्रिकेटप्रेमी के जहन में वर्ल्ड कप से पहले एक शक का बीज जरूर बो दिया है जो पूरे वर्ल्ड कप के दौरान जहन में बना रहेगा.

Web Title : Team India's sensational defeat