सबसे महंगी हो सकती है इस बार की अक्षय तृतीया, सोना 32 हजार के पार, चांदी में भी तेजी दर्ज

अगले हफ्ते (18 अप्रैल) को अक्षय तृतीया है, लेकिन जिन लोगों ने उस दिन सोना खरीदने का प्लान बनाया है उन्हें थोड़ा निराश होना पड़ सकता है। दरअसल, पश्चिम एशिया (सीरिया पर यूएस की बमबारी) की वजह से जो तनाव है उसका असर सोना-चांदी पर भी पड़ा है। शनिवार को अहमदाबाद में सोने की कीमत 32,300 (प्रति 10 ग्राम) रुपये थी, जो अक्षय तृतीया के हाल के इतिहास में सबसे महंगा रेट होगा। वहीं चांदी भी 40 हजार रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गई है।

सबसे महंगी अक्षय तृतीया
पिछले कुछ सालों की बात की जाए तो अक्षय तृतीया के आसपास सोने की कीमत 30,000 (प्रति 10 ग्राम) से ऊपर नहीं रही थी। पिछले साल अक्षय तृतीया 9 मई 2016 को थी, तब सोना 29,860 था। इस साल आनेवाले दिनों में भाव में और तेजी आने के संकेत मिल रहे हैं। इस बारे में बात करते हुए बुलियिन फेडरेशन ऑफ इंडिया के सचिव हरेश आचार्य ने कहा, ‘अगर अगले 3-4 दिनों तक भाव ऐसे ही बढ़ते रहे तो अक्षय तृतीया तक यह सबसे ज्यादा हो जाएंगे।’

बिक्री में कमी की उम्मीद कम
सोने का महंगा होना आशावादी जूलर्स पर कोई खास असर नहीं डाल रहा। उन्हें नहीं लगता कि रेट का बिक्री पर कोई खास असर पड़ेगा। एक जूलर ने कहा भी कि आनेवाले दिनों में भाव भले ही बढ़ जाएं लेकिन लोग जूलरी, सिक्के और ईंटों के रूप में इसमें निवेश करना जारी रखेंगे। इसकी एक वजह डायमंड की तरफ कम होता रुझान भी है। जूलरी की दुकान पर अडवांस बुकिंग करवाने वालों की भी भारी भीड़ है। बता दें कि पिछले साल सोने का भाव 28,861 (प्रति दस ग्राम ) था वहीं 2018 की शुरुआत में यह 28,500 था।

वहीं पश्चिम एशिया संकट की वजह से सिर्फ भारत में ही सोने का भाव नहीं बढ़ रहा है, बल्कि यह वैश्विक तौर पर है। न्यू यॉर्क में सोना शुक्रवार को 0.83 प्रतिशत उछलकर 1,345.40 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गया था। वहीं चांदी की चमक में 1.22 प्रतिशत इजाफा हुआ और यह 16.63 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गई।

Web Title : The most expensive may be this time of Akshaya Tritiya