जैसलमेर की इस पूर्व महारानी ने चुनाव लड़ने की जताई मंशा, पूजा-अर्चना कर शुरू किया जनसंपर्क

जैसलमेर। राजस्थान विधानसभा चुनावों की आहट के साथ ही इन दिनों पश्चिमी राजस्थान के रेतीले धोरों की धरती में भी सियासी पारा उबाल मार रहा है. नित बनते-बिगडतें कयासों के बीच सीमावर्ती जैसलमेर की पूर्व महारानी रासेश्वरी राज्यलक्ष्मी ने शनिवार को सोनार दुर्ग में कुल देवी स्वांगिया देवी व लक्ष्मीनाथ मंदिर ने पूजा अर्चना कर अचानक चुनावी समर में कूदने की मंशा जाहिर की. हालांकि पूर्व महारानी रासेश्वरी राज्यलक्ष्मी ने फिलहाल कौनसी पार्टी से चुनाव लड़ेगी इसके पत्ते नहीं खोले है लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि वे कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ग्रहण करेगी. फ़िलहाल वे कौनसी पार्टी के साथ जुड़ेगी इसका उन्होंने फिलहाल खुलासा नहीं किया है. 

इस अवसर पर बडी संख्या में महिलाओं ने पूर्व महारानी का माल्यार्पण कर स्वागत किया. वहीं युवराज चैतन्यराज का भी फूल मालाओं से स्वागत किया गया. आपको बता दे कि सोनार दुर्ग में कुल देवी स्वांगिया देवी व लक्ष्मीनाथ मंदिर ने पूजा अर्चना कर अपना जनसंपर्क अभियान शुरू किया. अपने महल से निकल कर बड़ी संख्या में समर्थकों के साथ वे सोनार दुर्ग में स्थित मंदिर में पूजा अर्चना करने के पश्चात वे लोगों से मिलने निकली, शहर में कई जगह माला पहना कर लोग उनसे आशीर्वाद लेते नजर आए. किसी पार्टी में जाने के बारे में उन्होंने कहा कि थोड़ा इंतजार करें.

बता दे कि, जैसलमेर के पूर्व राजघराने का कोई सदस्य लम्बे अरसे पश्चात राजनीति में प्रवेश करने जा रहा है. इस राजपरिवार ने आमजन में विशिष्ट पहचान रखने वाली पूर्व महारानी को आगे किया है. रासेश्वरी राज्यलक्ष्मी के कई दिन से राजनीति में सक्रिय होने के कयास लगाए जा रहे थे, लेकिन उन्होंने कभी खुलकर कोई बयान जारी नहीं किया. पूर्व महारानी के यकायक राजनीतिक मैदान में उतर आने से इस सीमावर्ती जिले में राजनीतिक समीकरण गड़बड़ा गए है. वहीं कांग्रेस की तरफ से बरसों से लोगों के बीच रहकर काम करने के बाद टिकट की उम्मीद जता रहे कई दांवेदारों के चेहरे पर मायूसी छा गई है.

वहीं उनके नजदीकी लोगों का कहना है कि पूर्व महारानी अलवर राजघराने से जुड़े और कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के करीबी माने जाने वाले भंवर जितेन्द्र सिंह के सम्पर्क है. उनके माध्यम से ही यह पूर्व महारानी कांग्रेस में प्रवेश कर अपनी राजनीतिक पारी का आगाज करने जा रही है. उल्लेखनीय है कि राजस्थान में धौलपुर की पूर्व महारानी व वर्तमान मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सहित कई पूर्व राजघराने राजनीति में सक्रिय है. इसके अलावा जयपुर व बीकानेर राजघराने की दो सदस्य भी वर्तमान में विधानसभा की सदस्य है. इसके अलावा कई पूर्व राजघराने प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से राजनीति में सक्रिय है.

Web Title : This former empress of Jaisalmer intends to contest elections