स्कूल में नामांकन बढ़ाने का अनूठा प्रयास, इस शिक्षक की पहल देखकर आप भी करेंगे तारीफ

अजमेर: आधुनिक शिक्षा के इस दौर में सरकारी विद्यालयों से लोगों का मोह भंग होता जा रहा है. यही कारण है कि इन विद्यालयों में छात्र संख्या निरंतर घट रही है. ऐसे मुश्किल समय में गांवों के छात्र-छात्राओं को सरकारी शिक्षा से जोड़ने के लिए एक शिक्षक ने अभिनव पहल की है. दरअसल राजस्थान के डीडवाना उपखंड के गिरधारीपुरा गांव में एक शिक्षक ने सरकारी स्कूलों तक बच्चों खींच लाने की जिम्मेदारी खुद उठा ली है.सरकारी स्कूलों में बच्चों को पढ़ानें का अनूठा अभियान , जिसे देख कर आप भी करेंगे तारीफ

शिक्षक सुखदेव चौधरी बच्चों के बीच यूनिफॉर्म, जूते, किताबें बांट रहे हैं. आज हर कोई चाहता है कि उसके बच्चे निजी स्कूलों में पढ़ें. नतीजा ये कि सरकारी स्कूलों की तरफ कोई जाना नहीं चाहता. ऐसे में सरकारी स्कूलों में वही जाते हैं जो गरीब हैं, जिनके पास और कोई विकल्प नहीं है. लेकिन ये लोग भी शिक्षा का स्तर देख सरकारी स्कूलों में अपने बच्चों को पढ़ाना न पढ़ाना बराबर ही मानते हैं.

लेकिन राजस्थान के डीडवाना उपखंड के गिरधारीपुरा गांव में एक शिक्षक स्थिति को बदल रहा है. उसके प्रयासों से सरकारी स्कूल में ज्यादा बच्चे आ रहे हैं. गिरधारीपुरा गांव अति पिछड़ा गांव है. यहां रहने वाले ज्यादातर लोग गरीब हैं. ऐसे में बच्चों की पढ़ाई लिखाई उनकी प्राथमिकता नहीं है. लेकिन गांव के सरकारी स्कूल के शिक्षक सुखदेव नए बच्चों को दाखिला लेने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं. इसका असर भी देखने को मिल रहा है. गांव निवासी रहमान का कहना है कि अब स्कूल में ज्यादा बच्चे दाखिला ले रहे हैं.

ब्लॉक शिक्षा अधिकारी जगदीश रॉय ने भी इस बात की पुष्टि की है. जगदीश रॉय बताते हैं कि शिक्षक सुखदेव से बाकी शिक्षकों को भी प्रेरणा लेनी चाहिए. जगदीश रॉय ने ये भी बताया कि शिक्षा विभाग ने भी सरकारी स्कूलों में दाखिला बढ़ाने के लिए प्रवेशोत्सव चलाया है. इसके तहत भामाशाहों को जोड़कर नए छात्रों को प्रोत्साहन दिया जा रहा है. सरकारी स्कूलों में घटते नामांकन और गरीब व जरूरतमंद छात्रों के लिए यह पहल काबिले तारीफ है. अगर सरकारी स्कूलों के सभी शिक्षक इससे प्रेरणा लेकर काम करें तो यकीनन सरकारी शिक्षण संस्थानों में नामांकन बढेगा और गरीब छात्र छात्राएं भी शिक्षा ले सकेंगे.

Web Title : Unique effort to increase enrollment in school