राजस्थान में आठ बीघा की जमीन में खेती करने वाले किसानों को मिलेगा 50 हजार की कर्जमाफी

जयपुर: सूबे की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सोमवार को अपनी सरकार का आखिरी बजट पेश किया। इस बजट में सीएम वसुंधरा राजे ने किसानों पर खास ध्यान दिया है। वसुंधरा के इस बजट को आने वाले विधानसभा चुनावों से जोड़कर देखा जा रहा है। सीएम वसुंधरा राजे ने सोमवार को विधानसभा में पेश बजट में किसानों के कर्जमाफी की घोषणा की। इस घोषणा में सरकार ने सहकारी बैंकों से लघु और सीमांत किसानों के 50 हजार रुपये तक के कर्जमाफी की बात कही है। इस कर्जमाफी का लाभ उन किसानों को नहीं मिलेगा जिनके पास 8 बीघा से ज्यादा जमीन नहीं है।

सीएम वसुंधरा राजे ने बताया कि लघु और सीमांत किसानों का सहकारी बैंकों से लिया गया 50 हजार रुपये तक का कर्ज माफ किया जाएगा। सरकार की रिपोर्ट के मुताबिक राज्य में 22 लाख किसानों ने सहकारी बैंकों से करीब 16 हजार करोड़ रुपये का लोन ले रखा है वहीं 20 लाख किसान ऐसे हैं जो जिन्होंने अन्य बैंकों से लोन ले रखा है।

सरकार ने अपने बजट में यह भी साफ कर दिया कि 36 भूमि विकास बैंकों की 132 शाखाओं से लोन लेने वाले किसानों को इस घोषणा का लाभ नहीं मिल पाएगा। वहीं दूसरी ओर राज्य सरकार के खजाने पर 8 हजार करोड़ का अतिरिक्त बोझ बढ़ जाएगा।

बैंकों के कर्ज के अलावा भू-राजस्व भी माफ किया जाएगा। प्रदेश में कुल 45 लाख किसानों पर करीब 27 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है। प्रदेश में एक हैक्टेयर जमीन वाले किसान सीमांत और दो हैक्टेयर वाले किसान लघु किसान की श्रेणी में आते हैं।

Web Title : We are farmers in the land of eight acres 50 thousand loan waiver