जब उमा भारती को गिरफ्तार करने निकलीं थीं ये महिला IPS; छोड़ना पड़ गया था CM पद, अब कराया पोल

नई दिल्ली। कर्नाटक की तेजतर्रार आइपीएस अफसरों में शुमार डी रूप एक बार फिर चर्चा में हैं. फील्ड ही नहीं सोशल मीडिया पर भी सक्रियता के लिए जानी जातीं हैं. जरूरी सम-सामयिक मुद्दों पर ट्वीट और पोस्ट लिखतीं रहतीं हैं. इस वक्त कर्नाटक पुलिस में इंस्पेक्टर जनरल यानी आइजी हैं. फिलहाल सूबे में उनके हवाले होम गार्ड्स और सिविल डिफेंस की कमान है. इसके पहले वह डीआइजी(जेल) के पद पर थीं. तब वह सुर्खियों में रहीं थीं, जब जयललिता की करीबी और भ्रष्टाचार में कर्नाटक की जेल में बंद तमिलनाडु की एआईएडीएमके नेता शशिकला को अंदर मिलने वाली वीआइपी सुविधाओं का भंडाफोड़ किया था. d roopa ips karnatka shashikla jailआज, यहां चर्चा दूसरी वजह से है. डी रूपा(D Roopa) ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक पोल कराया. इस पोल के जरिए उन्होंने पुलिस के बारे में आम जन की राय भांपने की कोशिश की. डी रूपा ने ट्वीट कर पूछा- आपमें से कितने लोग वास्तव में अब तक पुलिस के संपर्क में आए हैं और पुलिस के बारे में आपका ख्याल कैसा रहा? इसमें चार विकल्प दिए गए थे. सकारात्मक, नकारात्मक और संपर्क में कभी नहीं आए(नकारात्मक) और संपर्क में कभी नहीं( सकारात्मक)जब गिरफ्तार करने पहुंची थी ये IPS तो उमा भारती को छोड़ना पड़ा था CM पद, अब कराया पोल

क्या मिला जवाब?

डी रूपा के पोल पर कुल 11544 लोगों ने जवाब दिया है। लेकिन इसमें खास बता ये रही कि लगभग 51 प्रतिशत लोगों ने पोल के निगेटिव विकल्प पर वोट दिया। मतलब पुलिस को लेकर उनका बुरा अनुभव रहा। जबकि 28 प्रतिशत लोगों ने पुलिस से संपर्क को सकारात्मक माना वहीं 12 प्रतिशत ने कहा है कि वो कभी पुलिस के संपर्क में नहीं आए लेकिन पुलिस के प्रति उनकी धारणा पॉजिटिव है।j7259vf

उमा भारती को गिरफ्तार करने निकलीं थी डी रूपा

जीं हां, डी रूपा ही वह आईपीएस अधिकारी हैं जिन्होंने साल 2004 में एक वारंट को तामील कराने के लिए कर्नाटक से उमा भारती को गिरफ्तार करने के लिए निकल पड़ीं थी। वो भी तब जब उमा भारती मध्य प्रदेश की मुख्यमंत्री थीं। हालांकि डी रूपा के पहुंचने से पहले उमा भारती ने सीएम पद से इस्तीफा दे दिया था। यह वाकया उस समय कि है जब डी रूपा कर्नाटक के धारवाड़ जिले की पुलिस अधीक्षक थीं। दरअसल साल 2003 में जब उमा भारती सीएम बनीं तो उनके खिलाफ दस साल पुराने एक मामले में गैर जमानती वारंट जारी हुआ था।o8j24a08

जेल में किचन बनाने का किया था खुलासा

डी रूपा वो पुलिस अफसर हैं जिन्होंने तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की करीबी शशिकला को जेल में वीवीआईपी सुविधाएं मिलने का खुलासा किया था। डी रूपा ने एक रिपोर्ट तैयार की थी जिसमें उन्होंने कहा था कि जेल के अधिकारियों ने दो करोड़ रुपए लेकर जेल के अंदर शशिकला के लिए किचेन बनवाई। इसके अलावा स्टांप घोटाले में दोषी करार दिए जाने के बाद जेल में बंद अब्दुल करीम तेगी के बारे में भी रिपोर्ट में खुलासा किया।Image may contain: 1 person, text

डी रूपा का करियर
खाकी से डी रूपा की मोहब्बत ऐसी रही कि यूपीएससी की परीक्षा में 43 वीं रैंक हासिल करने के बाद भी उन्होंने आईपीएस बनना पसंद किया. वह कर्नाटक की पहली महिला आईपीएस अफसर हैं. डी रूपा अच्छी भरतनाट्यम डांसर भी हैं.वर्ष 2000 बैच की आईपीएस डी रूपा अपने करियर में कई चर्चित कार्रवाइयों के लिए जानीं जातीं हैं. उन्होंने आईएएस मुनीश मौदगिल(Munish Moudgil) से शादी की है. कई बार नेताओं से टकराव के कारण डी रूपा को अब तक 18 वर्ष के करियर में 41 से अधिक बार ट्रांसफर झेलने पड़े हैं.

Web Title : When the Uma Bharti came out to arrest these women IPS