सीरिया में सनसनी से क्यों घबरा गई दलाल स्ट्रीट, बाज़ार गिरे धडाधड

अमेरिका ने सीरिया में बम फोड़े लेकिन उसका सीधा असर मुंबई के कारोबार पर दिखाई पडा. बाज़ार ने इसे भू राजनीतिक हलचल माना और इसका असर ये हुआ कि बाज़ार धडाम से नीचे की ओर खिसक गए. गनीमत यह रही कि हमारा रूपया फिर भी 24 पैसे मजबूत हुआ.

मुंबई। सीरिया में अमेरिकी हवाई हमलों के बाद मुंबई की दलाल स्ट्रीट भी गबरा गई, इसके साथ ही अंतरराष्ट्रीय बाजार धराशायी हो गए। इस घबराहट में घरेलू निवेशकों ने भी शेयरों में चौतरफा बिकवाली की। अमेरिका ने सीरियाई एयर बेस पर ताबड़तोड़ हवाई हमले किए। इसने भू-राजनीतिक तनाव को हवा दे दी। इससे विदेशी बाजार लुढ़क गए। इसका असर घरेलू बाजार की कारोबारी धारणा पर भी पड़ा। हाल में रिकॉर्ड तेजी से बढ़े घरेलू बाजार में निवेशकों की मुनाफावसूली भी इसे नीचे खींचने के लिए जिम्मेदार रही।

क्या हाल रहा दलाल स्ट्रीट का

इस हमले के बाद बंबई शेयर बाजार (बीएसई) का सेंसेक्स 220.73 अंक लुढ़ककर एक हफ्ते के निचले स्तर 29706.61 अंक पर पहुंच गया। बीते रोज भी यह संवेदी सूचकांक 47 अंक फिसला था। इसी प्रकार नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 63.65 अंक टूटकर 9198.30 अंक पर बंद हुआ। जानकारों की माने तो बाज़ार का डाउन होना लाजमी है क्योंकि व्यापारी दुनिया भर के बाज़ारों के उतार चढाव देखकर व्यापार करता है.

हमारा रुपया 24 पैसे और मजबूत हुआ

सीरिया की सनसनी के बाद शेयर बाजार में गिरावट के बावजूद डॉलर के मुकाबले रुपए में मजबूती जारी है। यह शुक्रवार को अंतर बैंक विदेशी मुद्रा बाजार में 11 अगस्त, 2015 के बाद से अब तक के सबसे ऊंचे स्तर पर बंद हुआ। एक अमेरिकी डॉलर की कीमत 24 पैसे घटकर 64.29 रुपए रह गई। दिचलस्प यह है कि दिन के कारोबार की शुरुआत में भारतीय मुद्रा 16 पैसे की कमजोरी के साथ 64.69 रुपए प्रति डॉलर के स्तर पर थी।

Web Title : Why Strike Street Streaks in Syria, Market Falls Down