खबरें गर्म हैं कि दीपिका नवंबर में अपने बॉयफ्रेंड और अभिनेता रणवीर सिंह (Ranveer Singh) के साथ सात फेरे लेने जा रही हैं. हालांकि, दोनों स्टार्स ने इसपर बात करने के लिए राजी नहीं हैं. फिक्की लेडिज ऑर्गेनाइजेशन (एफएलओ) की ओर से शनिवार को ‘फाइंडिंग ब्यूटी इन इम्परफेक्शन’ शीर्षक पर आयोजित चर्चा के दौरान दीपिका मौजूद रही. मौके पर जब मीडिया ने उनकी शादी से जुड़े सवाल किए, तो दीपिका ने इनका मुंहतोड़ जवाब दिया.

नई दिल्ली। बॉलीवुड सुंदरी दीपिका पादुकोण इन दिनों अपनी शादी को लेकर चर्चा में हैं, खबर हैं कि लंबे वक्त से एक-दूसरे के प्रेम में गिरफ्तार दीपिका-रणवीर सिंह दोनों नवंबर में ब्याह रचाएंगे, हालांकि दोनों ही ओर से अभी इस बारे में कुछ कहा नहीं गया है लेकिन बॉलीवुड गलियारों मे शादी के चर्चे चरम सीमा पर है। हाल ही में एक मेंटल हेल्थ इवेंट में पहुंचीं दीपिका पादुकोण से जब इस बारे में सवाल किया गया तो वो एकदम से गुस्सा हो गईं, उन्होंने कहा कि ये निश्चित रूप से असंवेदनशील सवाल है, जिसका आज के इवेंट से कोई लेना-देना नहीं है। ना तो ये सब्जेक्ट है आज बात करने का और ना ही तुक, मैं इस बारे में कुछ नहीं कहूंगी।PunjabKesariशादी के सवाल पर भड़कीं दीपिका पादुकोण
आपको बता दें कि इवेंट में अपने डिप्रेशन से उबरने के एक्सपीरियंस को दीपिका मौजूद ऑडियंस के साथ शेयर कर रही थीं। तभी किसीरिपोर्टर ने दीपिका से उनकी शादी को लेकर सवाल किया कि क्या वह इस साल नवंबर में रणवीर संग शादी के बंधन में बंधने जा रही हैं, जिस पर अभिनेत्री को गुस्सा आ गया और उन्होंने पत्रकार को लताड़ लगा दी।PunjabKesariगौरतलब है कि दीपिका ने खुद बताया था कि एक वक्त था जब वो डिप्रेशन में चली गई थीं, बेहद ही कम वक्त में हिंदी सिनेमा की टॉप अभिनेत्रियों में शामिल होने वाली खूबसरत मस्तानी कहा था कि आज से करीब 4 साल पहले वो भी अवसाद ग्रसित थीं, अगर उनकी मां का सपोर्ट नहीं होता तो शायद वो भी आज किसी मानसिक अस्पताल में अपना इलाज करवा रही होतीं।डिप्रेशन पर बात कर रहीं दीपिका को शादी के सवाल पर आया गुस्सा दीपिका मेंटल हेल्थ के लिए चलाती है एनजीओ
दीपिका मेंटल हेल्थ के लिए Live Love Laugh Foundation नाम का एनजीओ भी चलाती हैं, उन्होंने कहा कि कि अक्सर लोग इस बीमारी को सीरयसली नहीं लेते और जब ये बीमारी भयावह स्थिति में पहुंच जाती है, तब इसके लिए परेशान होते हैं। आजकल इस रोग की चपेट में सबसे ज्यादा हमारे युवागण हैं, जिसके पीछे कारण हद से ज्यादा लोगों का प्रतिस्पर्धी होना है।PunjabKesariफिल्मी हसीना ने कहा कि आज लोग एक-दूसरे से आगे निकलने के चक्कर में संवेदनाओं और भावनाओं का कत्ल बड़ी आसानी से कर देते हैं, बस जहां ये कत्ल होता है वहीं से अवसाद के अंकुर फूटते हैं, ऐसे में मैं लोगों से कहना चाहती हूं वो घर में ऐसा माहौल अपने बच्चों के लिए पैदा करें जहां उन्हें किसी बात की असुरक्षा ना हो और बच्चा खुशी महसूस करे, वो अपनी भावनाओं से जुड़ी हर बात चाहे वो बीमारी हो या फिर डर, आराम से शेयर कर पाए।

सामाजिक कलंक
दीपिका ने कहा कि मानसिक बीमारी एक सामाजिक कलंक है,जिस दिन हम साथ मिलकर इससे पार पा लेंगे और जागरूकता फैलाएंगे, उस दिन हमें इस पर जीत मिल जाएगी। इस विषय पर सबको एक जुट होकर काम करना होगा।